April 20, 2021

Verse

बूढ़ा….. बचपन

क्या कहता है बूढ़ा मन..जैसे लौट रहा बचपन। पास उनके जाओ,बैठो दो पल ।तुम अपना…

थक गई हूँ …. पर हारी नहीं हूँ मैं….

जमानें के तानों से..बेबुनियाद इल्ज़ामों से..बीते हुए अफ़सानो से..थक गई हूँ ….पर हारी नहीं हूँ…

%d bloggers like this: