कोशिश जारी है….

I may not be the best but I am sure…I am trying my best.

Read More

बूढ़ा….. बचपन

क्या कहता है बूढ़ा मन..जैसे लौट रहा बचपन। पास उनके जाओ,बैठो दो पल ।तुम अपना आज सुनाओ,वो सुनाए बीता कल।। माना धुंधली हो गई है

Read More

मेरा एक सपना है….

मेरा एक सपना है…. मैं अपने पापा जैसी बन जाऊँ जैसे वो सबकी पसंद-नापसंद का..ध्यान रख लेते हैं |वैसे ही मैं अपनी इच्छा दबाकर…सबका मन

Read More

थक गई हूँ …. पर हारी नहीं हूँ मैं….

जमानें के तानों से..बेबुनियाद इल्ज़ामों से..बीते हुए अफ़सानो से..थक गई हूँ ….पर हारी नहीं हूँ मैं.. बेवज़ह नफ़रतों से …मतलबी जरूरतों से..एक तरफ़ा समझोतों से…थक

Read More

मैं एक किरदार अनेक

मैं हूं एक और किरदार अनेक निभाती हूं टूटे हुए फेवरेट खिलौनों को जोड़कर बिना डिग्री की इंजीनियर बन जाती हूं मैं हूं एक और

Read More

एक मैं और एक तुम……

एहसासों की डोर से बंधे हैं दोनों।इनसे जुदा तू भी नहीं, जुदा मैं भी नहीं।। महफिलों में मिलते हैं सबसे मुस्कुराकर।सबको पता हैं खुश तू

Read More

एक हाउसवाइफ की कलम से

सिखाने की उम्र में सीख रही हूंहां मैं एक हाउसवाइफ हूं और खुश हूं सीख लिया है मैंने बनाना बच्चों के लिए पास्तापर मुझे नहीं

Read More