40 के पार का Valentine Day 🌹

वैलेंटाइन डे से हमें क्या लेना देना, ऐसा है दिमाग का कहना जी, परंतु जो छोटा सा दिल है वह तो अभी बच्चा है जी… मिल जाते गुलाब और अनेक उपहार, बन जाते हम भी 1 दिन के सुपरस्टार… यही सोचते-सोचते हमने भी इस बार ठान ली, वैलेंटाइन डे होगा स्पेशल दिल ने यह बात … Continue reading 40 के पार का Valentine Day 🌹

मैं और मेरा दोस्त

चाय का प्याली से,फूलों का डाली से कुछ ऐसा रिश्ता है मेरा और मेरे दोस्त का जो कभी था अनजान ,आज मेरा दोस्त कहलाता है ना जाने इतना अटूट रिश्ता कैसे बन जाता है हर सुख दुख में मेरा साथी है हां वो मेरा हमराही मेरा दोस्त मेरा जीवन साथी है आंखों की भाषा को … Continue reading मैं और मेरा दोस्त

होली # “हो” “ली”

होली का त्यौहार है आया रंग बिरंगी खुशियां लाया ठहरों ठहरों रुको रुको कहाँ है ये खुशियां ज़रा ये तो बताओ , जो लोग बाँटते है खुशियां ज़रा उन से तो मिलवाओ | इस जहां में जहाँ हर एक इंसान एक दूसरे से जलता है , फिर होलिका दहन करने से क्या मिलता है| जो … Continue reading होली # “हो” “ली”

शादी की दावत (थोड़ा व्यंग ,थोड़ी सीख )

बिट्टू जी की शादी में पकवान बने मजेदारक्या खाएं क्या ना खाएं सोच में पड़ गए यार हमने कभी किसी को ना कहना ना सीखा थाइसलिए सब कुछ प्लेट में थोड़ा-थोड़ा परोसा था सब कुछ प्लेट में परोस कर नए पकवानों का किया अविष्कार कढ़ाई पकोड़ा, कोफ्ता मखनी, दाल कढ़ी बन गई,तभी हमारी नजर गुलाब … Continue reading शादी की दावत (थोड़ा व्यंग ,थोड़ी सीख )

मिट्टी के दिये

दोस्तों कैसी रही आप सबकी दिवाली ..उम्मीद है बढ़िया ही रही होगी ..आप सोच रहे होंगे दिवाली तो अब अगले साल आएगी तो आज ये "मिट्टी के दिये" कविता क्यों ….मन में कुछ विचार आया तो सोचा क्यों ना आप सब के साथ कुछ पंक्तियों के माध्यम से साझा करूं.. दस रुपए के दस दिये … Continue reading मिट्टी के दिये

कहां खो गई मेरी वाली दिवाली

ना जाने कहां खो गई है वह दिवाली, जिसकी करते थे एक महीने पहले से तैयारी घर घर बनते थे नए नए पकवान, क्योंकि आते थे त्यौहार पर ढेरों मेहमान एक दूसरे के घर खील ,बताशे और मिठाई प्लेट में सजाकर ले जाते थे ,नए नए कपड़े पहन कर खूब इतराते थे आम के पत्तों … Continue reading कहां खो गई मेरी वाली दिवाली

मन की मशीन

ध्वनि रोज़ की तरह नम आँखों से घर का काम कर रही थी बार बार उसे यहीं ख्याल परेशान कर रहा था की उसने राहुल के साथ शादी करके गलती तो नहीं की ….शादी सिर्फ एक शब्द नहीं एक ज़िम्मेदारी है ….ये राहुल को भी समझना चाहिए…पहले और अब में फर्क है …ना जाने कितनी … Continue reading मन की मशीन