सोलह श्रृंगार के 16 भाव

पहला श्रृंगार है स्नान जिसमें मैंने नकारात्मक सोच को ना दिया मान दूसरा श्रृंगार बिंदी का ऊंचा रखूंगी अपना आत्मसम्मान तीसरा श्रृंगार सिंदूर कालाल रंग सा उज्जवल हो मेरा भविष्य चौथा श्रृंगार काजल काबुरी नजर से बचे मेरा परिवार पांचवा श्रृंगार मेहंदी का दिखलाता है भाव सहनशीलता का छठा श्रृंगार फूलों का गजरा खुशियों से … Continue reading सोलह श्रृंगार के 16 भाव

काश !

काश! का है जो एहसासवह होता है सब के पास बचपन से ही काश! साए की तरह बुढ़ापे तक साथ निभाता हैवक्त के साथ काश! भी बदलता जाता है काश! मैंने मेहनत की होती तो आज मैं डॉक्टर होता काश! मैंने अपनी सेहत का ख्याल रखा होता तो मेरा बुढ़ापा खराब ना होता काश! मैंने … Continue reading काश !

WINNERS OF DUSSEHRA DRAWING CONTEST

CONGRATULATIONS TO ALL THE WINNERS !!! FIRST POSITION 212 / 363 VOTES101/125 VOTES111/228 VOTES105/212 VOTES SECOND POSITION <img src="https://atomic-temporary-181636012.wpcomstaging.com/wp-content/uploads/2020/10/WhatsApp-Image-2020-10-20-at-14.24.42-768x1024.jpeg&quot; alt="KRISHIT CHADHA KRISHIT CHADHA 80/363 VOTES<img src="https://atomic-temporary-181636012.wpcomstaging.com/wp-content/uploads/2020/10/WhatsApp-Image-2020-10-28-at-12.15.58-1024x768.jpeg&quot; alt="PARABPARAB14/125 VOTES<img src="https://jainmona.files.wordpress.com/2022/07/01625-whatsapp-image-2020-10-20-at-17.30.43.jpeg?w=814&h=1024&quot; alt="DANYA SHAFQUATDANYA SHAFQUAT60/228 VOTES<img src="https://atomic-temporary-181636012.wpcomstaging.com/wp-content/uploads/2022/07/1b366-whatsapp-image-2020-10-25-at-23.35.19.jpeg&quot; alt="S. BAVADHARINIS. BAVADHARINI76/212 VOTES THIRD POSITION <img src="https://jainmona.files.wordpress.com/2022/07/c94ff-whatsapp-image-2020-10-23-at-10.06.38-pm.jpeg?w=1024&h=767&quot; alt="M. VINCY GABRIELLAM. VINCY GABRIELLA71/363 VOTES<img src="https://jainmona.files.wordpress.com/2022/07/03ef0-whatsapp-image-2020-10-26-at-00.48.37.jpeg?w=734&h=1024&quot; alt="AATHVIKA GANESHAATHVIKA GANESH10/125 VOTES<img src="https://jainmona.files.wordpress.com/2022/07/f9069-whatsapp-image-2020-10-21-at-18.00.54.jpeg?w=1024&h=806&quot; alt="ADITI … Continue reading WINNERS OF DUSSEHRA DRAWING CONTEST

रामराज और आज

कुछ नहीं बदला आज में और कल के रामराज में रावण ने एक सीता को अपमानित किया और आज ना जाने कितनी सीता अपमानित होती इस कलयुगी राज में कुछ नहीं  बदला आज में और कल के रामराज में अहंकार का रावण बसता हर एक इंसान में कुछ नहीं  बदला आज में और कल के … Continue reading रामराज और आज

बूढ़ा….. बचपन

क्या कहता है बूढ़ा मन..जैसे लौट रहा बचपन। पास उनके जाओ,बैठो दो पल ।तुम अपना आज सुनाओ,वो सुनाए बीता कल।। माना धुंधली हो गई है नज़र,पर फिर भी चेहरा लेते पढ़।कब खुश हो तुम, कब परेशान,आसानी से लेते पहचान ।। बच्चों से महके आँगन,और बड़ों से बनते हैं घर ।बच्चों की किलकारियाँ जैसे ही,गूंजे ममता … Continue reading बूढ़ा….. बचपन

परी भी और शेरनी भी

रौशनी अपने पापा के साथ खाना खाते हुए  रोज न्यूज़ देखती  है, देश विदेश की खबरें देखने के बाद उसके मन में हजार विचार आते कभी अपने पापा के साथ discuss करती तो कभी ignore कर देती| पिछले सोमवार की बात है रोशनी खाना खाते-खाते उदास हो गई, पापा ने उसके चेहरे के भाव भांप  … Continue reading परी भी और शेरनी भी