OLD IS GOLD – WINNERS

वो थे कभी युवा जो आज बुजुर्ग कहलाते हैंहम उनके अनुभव से ही आगे बढ़ते जाते हैंहमारे दुख से दुखी और हमारी खुशी में खुश हो जाते हैंउनका हाथ रहे हमारे सर पर हमेशा बस यही दुआ मनाते हैं नीव है वह हमारे जीवन की करते हैं हम उनका सम्मानउनसे ही हमारा व्यक्तित्व है वह … Continue reading OLD IS GOLD – WINNERS

MOM AND KIDS CONTEST (Nov 22nd- Nov 30th)

Registration closed 30th Nov at 07:00 pm RULES: There are two groups . Group 1 for Kids. There is no registration fees for participation.Group 2 for Moms. Registration fees Rs 20/- for participation.GROUP 1. There are two categories.Category A (2-6 years) : Poem recitation. Upload video of the child saying rhyme.Category B (7-11 years) :Story … Continue reading MOM AND KIDS CONTEST (Nov 22nd- Nov 30th)

मिट्टी के दिये

दोस्तों कैसी रही आप सबकी दिवाली ..उम्मीद है बढ़िया ही रही होगी ..आप सोच रहे होंगे दिवाली तो अब अगले साल आएगी तो आज ये "मिट्टी के दिये" कविता क्यों ….मन में कुछ विचार आया तो सोचा क्यों ना आप सब के साथ कुछ पंक्तियों के माध्यम से साझा करूं.. दस रुपए के दस दिये … Continue reading मिट्टी के दिये

कहां खो गई मेरी वाली दिवाली

ना जाने कहां खो गई है वह दिवाली, जिसकी करते थे एक महीने पहले से तैयारी घर घर बनते थे नए नए पकवान, क्योंकि आते थे त्यौहार पर ढेरों मेहमान एक दूसरे के घर खील ,बताशे और मिठाई प्लेट में सजाकर ले जाते थे ,नए नए कपड़े पहन कर खूब इतराते थे आम के पत्तों … Continue reading कहां खो गई मेरी वाली दिवाली

मन की मशीन

ध्वनि रोज़ की तरह नम आँखों से घर का काम कर रही थी बार बार उसे यहीं ख्याल परेशान कर रहा था की उसने राहुल के साथ शादी करके गलती तो नहीं की ….शादी सिर्फ एक शब्द नहीं एक ज़िम्मेदारी है ….ये राहुल को भी समझना चाहिए…पहले और अब में फर्क है …ना जाने कितनी … Continue reading मन की मशीन