April 20, 2021

रामराज और आज

कुछ नहीं बदला आज में और कल के रामराज में

रावण ने एक सीता को अपमानित किया और आज ना जाने कितनी सीता अपमानित होती इस कलयुगी राज में

कुछ नहीं  बदला आज में और कल के रामराज में

अहंकार का रावण बसता हर एक इंसान में कुछ नहीं  बदला आज में और कल के रामराज में

छल कपट से तोड़ते है जिस पर करते तुम विश्वास अटूट , जैसे रावण ने तोड़ा विश्वास सीता का ले साधु का रूप..

आज की सोच ना खुश रहो न रहने दो यह रीत रामराज से चली आयी, राम जी को वनवास भेजकर माता केकयी ने क्या सुख भोगा भाई

आज हर इंसान जलता है बदले की ज्वाला में ना कोई करना चाहता किसी की भूल माफ़, यह ही तो हुआ था रामराज में जब काटी थी लक्ष्मण ने सुपर्णखा की नाक

घर का भेदी लंका ढाये यह सिद्ध हुआ रामराज में, जैसे अपने देश के गद्दार बन जाते है जासूस दूसरों के राज में

सीता जी की अग्नि परीक्षा का विभिन्न परीक्षाओं ने लिया है रूप , अपने आप को सही साबित करना ही रह गया नारी का जीवन स्वरूप

चाहे हो बात रामराज की या हो बात आज की .. एक इंसान के अच्छे होने से यह देश बदल ना पाएगा, हम भी बदले तुम भी बदलो, तभी एक खुशहाल राज बन पायेगा…🙏

Leave a Reply

%d bloggers like this: